Monday, 21 August 2017

What is ARPANET ? दुनिया का पहला INTERNET नेटवर्क : जानिए हिंदी में

नमस्कार दोस्तों ! आपका हमारे  WebRaksha ब्लॉग पर स्वागत है | दोस्तों हम सब लोग अब इंटरनेट से अच्छी तरह से परिचित हो गए है |  इंटरनेट अब हमारे जीवन का एक जरुरी हिस्सा बन चूका है आप सब लोगोंको ये जानने की जरूर उत्सुकता होगी की इंटरनेट की खोज किसने, कहा और कैसे की है | आप लोगों की जानकारी के लिए ये बता देते है की इंटरनेट की खोज किसी एक व्यक्ति ने नहीं की है , किसी एक देश ने नहीं की है या किसी एक संस्था ने नहीं की है | इंटरनेट के निर्माण में अनेक वैज्ञानिक, इंजीनियर, अनेक देश, अनेक संस्थाओंका योगदान रहा है | आज की इस पोस्ट में हम विश्व का पहला इंटरनेट नेटवर्क ARPANET की जानकारी शेयर कर रहे है |

what-is-ARPANET-in-hindi

ARPANET का संक्षिप्त रूप ( Full Form Of AARPANET )

ARPANET का संक्षिप्त रूप इस प्रकार है : The Advanced Research Project Agency Network

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

ARPANET क्या है ?  ( What is ARPANET ? )

ARPANET दुनिया का पहला Packet Switching और IP/TCP (Internet Protocol / Transmission Control Protocol ) का प्रयोग करके बनाया गया नेटवर्क है | ARPANET इंटरनेट के History में  दुनिया का  पहला इंटरनेट नेटवर्क माना जाता है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

ARPANET का निर्माण ( Invent of ARPANET )

ARPANET का निर्माण 1969 में अमेरिका के Difence Dipartment के  The Advanced Research Project Agency  द्वारा किया गया | ARPANET के निर्माण में अनेक शोधकर्ताओं का महत्वपूर्ण सहयोग रहा है |  Winton Gray Sirf और Bob Kahn जो की IP/TCP Protocol के शोधकर्ता है | अमेरिका के वैज्ञानिक Leonard Kleinrock , Paul Baran, Lawrence Roberts और ब्रिटिश वैज्ञानिक Donald Davies  जो की Packet Switching के शोधकर्ता है | Ray Tomlonson जिन्होंने पहली बार नेटवर्क ईमेल का परिचय कराया | साथ ही Louis Pouzin के फ्रेंच CYCLADES प्रोजेक्ट की संकल्पना| इन सबका ARPANET के निर्माण में महत्वपूर्ण सहयोग रहा है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

ARPANET का विस्तार ( Progress of ARPANET )

1970 में जैसे ही ARPANET का नेटवर्क कार्यरत हो गया तो इस नेटवर्क के साथ कई संस्थाए , कंपनिया और यूनिवर्सिटीज़ जुड़ गई |  जैसे की Bolt, Beranek और Newman ये कंपनियां ARPANET के साथ जुड़ गई |

1971 में TIP (Terminal Interface Processor ) तकनीक का प्रयोग ARPANET में किया गया | इस तकनीक की मदत से  ARPANET से जुड़ा हुआ हर कोई व्यक्ति अपने व्यक्तिगत कंप्यूटर से  ARPANET के नेटवर्क के साथ कनेक्ट किये गए किसी भी कंप्यूटर से कनेक्ट होके उस कंप्यूटर की जानकारी प्राप्त कर सकता है | उस कंप्यूटर की जानकारी को अपने कंप्यूटर में सेव कर सकता है | या उस कंप्यूटर को कोई भी जानकारी भेज सकता है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

1972 में Ray Tomlonson ने  ARPANET के लिए Email ( Electronic Mail ) प्रनाली विकसित की | Email से आप सब लोग अच्छी तरह से परिचित हैं | इन्होने ईमेल प्रनाली को विकसित करने के लिए SNDMSG और READMAIL एप्लिकेशन का प्रयोग किया | ईमेल प्रणाली में यूजर्स और यूजर्स द्वारा होस्ट किया गया कंप्यूटर  के शब्दों को एक साथ जोड़ने के लिए " @ " सिम्बॉल का प्रयोग किया गया | इस सिम्बॉल को हम आज भी प्रयोग करते है |

1972 में ही ARPANET के साथ 24 साइट्स कनेक्ट हो गए | जिनमे National Science Foundation, NASA और Federal Reserve Board भी शामिल थे |

1973 में ARPANET पर साइट्स की संख्या 37 हो गई | जिनमें Callifornia से लेके Havaii द्वीप समूह तक की satelite Link भी शामिल थी |

1974 में ARPANET से 111 कम्प्यूटर्स कनेक्ट हो गए |

1982 में IP/TCP Protocoll का प्रयोग ARPANET में किया गया | IP/TCP Protocoll का कार्य इस प्रकार है : इंटरनेट नेटवर्क में इस IP/TCP Protocoll का प्रयोग Communication Protocoll के रूप में किया जाता है | ये Protocol तय करता है की Network Adapter, Hubs, Switches, Routers, और other Network Communication Hardware द्वारा कितना डेटा भेजना है और प्राप्त करना है |

1983 में MILNET ( Military network or Militery net ) को ARPANET नेटवर्क से अलग किया गया | MILNET का उपयोग अमेरिका के Unclassified United States Department of Defence ( DoD ) के लिए किया जाता था |

1985 में ARPANET का विस्तार North America, Europe और Austrelia तक हो गया |

1990 में ARPANET की सेवा बंद हो गयी | ARPANET के साथ जो भी संस्थाएं और यूनिवर्सिटीज कनेक्ट थी वो सब NSFNET नेटवर्क के साथ कनेक्ट हो गयी |
 
हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

आशा करता हु की आपको हमारी ये जानकारी जरूर पसंद आयी होगी | आपको हमारी जानकारी कैसी लगी इसके बारे में आप कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे | साथ ही आप हमारी इस जानकारी को सोशल मिडिया साइट पर भी अपने दोस्तों को शेयर कर सकते है | साथ ही आप हमें सोशल मीडिया साइट पर फॉलो कर सकते है | फेसबुक पर हमारे " WebRaksha " पेज को जरूर लाइक करे | धन्यवाद् !