Wednesday, 28 March 2018

Google क्या है , Google का इतिहास और Google का मुख्यालय कहा पर है ? : इसकी पुरी जानकारी हिंदी मे

नमस्कार दोस्तो आपका हमारे "Web Raksha"  ब्लॉग पर स्वागत है | आज के दौर मे पुरे  विश्व मे गूगल एक पावरफूल सर्च इंजिन है |  गूगल के बिना इंटरनेट कि हम लोग कल्पना भी नही कर सकते है | जब भी हम लोग अपने पीसी, लॅपटॉप या मोबाईल पर इंटरनेट युज करने के लिये ब्रौज़र ओपन करते है तो सबसे पहले गूगल सर्च इंजिन को हि पसंद करते है | तो चालीये दोस्तो आज कि इस पोस्ट मे गूगल क्या है, गूगल का फूल फोर्म क्या है, गूगल का इतिहास और गूगल कि कंपनी कहा पर है, इसकी जानकारी लेते है |

about-google

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

Google Compony की जानकारी 

Google एक American Multinational Technology Compony है जो की Internet Related Product में Specelize है | जैसे की Google Search Engine, Gmail, Youtube, Google+,Google Typing Tool, Google Translate, और भी ऐसे कई Product Online Promote करती है | 

गूगल का फूल फोर्म क्या है ?

Global Organization of Orianted Group Language of Earth


Google का इतिहास (History of Google )

गूगल कि स्थापना कब हुई ?

गूगल कि स्थापना 1996 मे हुई |

गूगल कि स्थापना किसने कि ?

गूगल कि स्थापना “Larry Page” और  “Sergey Brin” इन्होने कि | दोन्हो भी “Stanford Univercity” मे PHD के छात्र थे |



गूगल का मुख्यालय कहा पर है ?

गूगल का मुख्यालय अमेरिका के “California” शहर मे है | 



हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

आशा करता हु की आपको हमारी पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी | आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी इसके बारेमे आप हम को कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे | साथ ही आप हमारी इस पोस्ट को आपके दोस्तों में सोशल नेटवर्किंग साईट पर भी सकते है | आप हमे सोशल नेटवर्किंग साईट पर भी फॉलो कर सकते है | धन्यवाद् !
Read More

Monday, 5 March 2018

Google Android और Apple iOS Operating System की जानकारी हिंदी में

नमस्कार दोस्तों आपका हमारे WebRaksha वेबसाइट पर स्वागत है | आज की इस पोस्ट में हम Mobile Technology से संबंधित एक महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा करेंगे | दोस्तों आप सब Google Android और Apple iOS Operating System के बारे में जानते हि होंगे | आज की इस Post में  Google Android और Apple iOS Operating System क्या है और इस में क्या अंतर है इसके बारे में चर्चा करेंगे | 

android-and-ios

Google Android और Apple iOS Operating System की जानकारी 


Google Android :

Google Android जो Google कंपनी द्वारा दुनिया भर में Mobile Technology में यूज़ होनेवाली Operating System है | Android Application Development के लिए Java Language का प्रयोग किया जाता था, इसमें बहुत सारे जटिल Codes का प्रयोग होता था  |  अब इसकी जगह Kotlin Language का उपयोग किया जाता है | Android Application Development में Kotlin Language के प्रयोग से बहुत सारे Technical Benifits मिल रहे है | 

हमारी इस पोस्ट को भी जरूर पढ़े :

iOS Operating System :

 iOS Operating System Apple कंपनी द्वारा Mobile Technology में यूज़ होनेवाली Operating System है | iOS Operating System का प्रयोग Apple कंपनी के iPhone, iPad , iPod जैसे Touch Divices में होता है | iOS Operating System का का प्रयोग पहली बार 2007 में Apple के iPhone में किया गया था | 

iOS Application Developement के लिए Swift Language का प्रयोग होता है | iOS Application Developement के लिए Swift Language में बहुत ही कम Coding की जरुरत होती है | इसी कारण से iOS Application बहुत ही तेजीसे Run होते है | 

हमारी इस पोस्ट को भी जरूर पढ़े :

आशा करता हु की आपने हमारी Post जरूर Enjoy की होगी | हमारी ये Post आपको कैसी लगी इसके बारे में Comment Box में Comment जरूर करे | साथ हमारी इस Post को Social Media Site पर भी जरूर Share करे और हमें Social Media Site पर भी जरूर Follow करे | धन्यवाद् 
Read More

Thursday, 8 February 2018

What is Domain Name ? in Hindi

नमस्कार दोस्तों आपका हमारे Webraksha Website पर स्वागत है | दोस्तों आजकी इस पोस्ट में Internet से संबंधित एक महत्वपूर्ण टॉपिक पर चर्चा करेंगे | आप सब लोग Domain Name से अच्छी तरह से परिचित होंगे ही | किसी Website या ब्लॉग के लिए Domain खरीदना कितना आवश्यक है इसकी आपको जानकारी होगी ही | तो चलिए दोस्तों Domain क्या है ?, इसका इतिहास क्या है ?, ये कैसे काम करता है ? और इसके प्रकार क्या है इसके बारे में विस्तार से चर्चा करते है ?


domain-name-ki-jankari


Domain Name की जानकारी हिंदी में


Domain क्या है ?

किसी वेबसाइट या Blog  की खोज करने के लिए Website या Blog को जो नाम दिया जाता है, उसको Domain Name कहा जाता है |   जैसे की हमारे Blog का नाम है www.webraksha.com | इसमें www जो की particular Host Server है | Webraksha जो की Middel Level Domain या Sub-Domain है | .com जो की Top Level Domain Name है | इन सबको मिलाकर एक Fully Quilified Domain Name बनता है | अब दोस्तों आपको अच्छी तरह से समझ में आया होगा की Domain किसे कहते है |

Domain का इतिहास :

ARPANET में IP/TCP प्रणाली के अविष्कार के तुरंत बाद Domain Name का अविष्कार हुआ | पहला Top Level ( TLD Com ) Comercial Internet Domain Name 15 मार्च 1985 में Register किया गया | जिसका नाम है Symbolics.com जो की Symbolics Inc द्वारा Register किया गया | Symbolics Inc जो की Cambridge, Massachusetts स्थित Computer System Firm है |
1992 तक 1500 com Domain Register किये गए |

Domain कैसे काम करता है ?

DNS यानी की Domain Name System प्रणाली जो की Domain Name को IP Address में Translate करती है | Domain Name जो की alphabetic Format में होता है इसकी वजह से इसको याद रखना आसान होता है | और IP Address जो की Numeric Format में होता है |

उदहारण के लिए आप अपने Mobile में किसी सचिन नाम से व्यक्ति को कॉल करने के लिए Mobile Number को सचिन नाम से Save करते है | जब भी आपको सचिन को call करना है तो उसके मोबाइल नंबर को Dial करने के बजाये Save किये गए नाम से ही Calling करते है तो आपकी कॉल सचिन के मोबाइल नंबर से Direct हो जाती है |

इसी तरह Webraksha.com का IP Address है, 50.63.202.54 | कोई भी Internet User जो की Webraksha website पर Access करने के लिए Browser के Address Bar में website के IP Address को Type करने के बजाये Website के नाम को ही टाइप करके Access करेगा |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

Domain के प्रकार :

1 : TLD - Top Level Domain
TLD के प्रकार कुछ इस तरह से है :
A : CCTLD - Country Code Top Level Domain
नाम से ही पता चलता है की Geographical Location के लिए Use किया जाता है | जैसे की .in भारत के लिए | .uk ब्रिटेन के लिए | .us USA के लिए | .au ऑस्ट्रेलिया के लिए |

B : GTLD - Generic Top Level Domain
.com, .net, .biz, .org, and .info ये कुछ Generic TLD's के उदहारण है | इस Type के Domain को कोई भी और कहासे भी रजिस्टर कर सकता है | 

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

आशा करता हु की आपको हमारी ये Post जरूर पसंद आयी होगी | हमारी ये पोस्ट कैसी लगी इसके बारे में आप हमें Comment Box में Comment जरूर करे | हमारी इस पोस्ट को social Media Site पर जरूर शेयर करे | 

Read More

Wednesday, 10 January 2018

Blogger Blog पर Language and Formatting की Setting कैसे करे ? इसकी जानकारी हिंदी में

नमस्कार दोस्तों आपका हमारे Webraksha Website पर स्वागत है | दोस्तों अगर आपने Blog बना लिया है तो ये बहुत ही अच्छी बात है | लेकिन क्या आपको पता है की Blog बनाने के बाद उसकी setting करना कितना  Important Part है | पिछली Post में हमने Blogger Blog पर Email Setting कैसे करते है ? इसके बारे में जान लिया |  आज की इस Post में हम Blogger Blog पर Language and Formatting की Setting कैसे करे इसके बारे में चर्चा करेंगे |


blogger-setting-language-and-formatting


Blogger Blog पर Language and Formatting की Setting कैसे करे ?

Step 1 : 

सबसे पहले Blogger.com पर Log-in करके Dashboard << Setting << Language and Formatting पर जाये | 


blogger-setting-language-and-formatting


Step  2 :


Language 

1 : Language : यहा पर Language को English ( United Kingdom ) रखे |


 2 : Enable Transliteration : यहा पर अगर आप Enable Transliteration में दी गयी सूचि में से जिस भाषा को Enable करेंगे तो Post Editor में English Word को उस भाषा में Convert करेंगे | उदहारण के लिए अगर आप हिंदी Blogger है तो आपको हिंदी भाषा को Enable करना है | इसके बाद आप पोस्ट एडिटर में जाये | Post Editor में Language Tool Par "" इस Word को Select करे | अब Post Editor में " Namaskar " Word को Type करे इसके बाद ये English word " नमस्कार " इस हिंदी Font  में convert हो जायेगा | अगर आपका Blog English भाषा में है तो Enable Transliteration को Disable रखे |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

Step : 3

Formatting :

1 : Time Zone : Time Zone में India Standard Time को Select करे |

2 : Date Header Format : ये Format Blog Post के ऊपर दिखाई देता है | अगर ये Format नहीं दिखाई दे रहा है तो Dasboard << Layout  << Blogpost Gadget << Edit पर जाए | यहा पर एक Pop-up Window ओपन होगी | इस Window पर Post Page Option के निचे Tik करे |

 3 : Timestamp Format : इस Format को Blogpost के लिए सेट किया जाता है |



4 : Comment Timestamp Format : इस Format को Post Comment के लिए सेट किया जाता है |

Last में Save Setting पर Clik करे | अब आपकी Language and Formatting की Setting Successfully Done हुई है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

आशा करता ही की आपने हमारी इस Post को जरूर Enjoy किया होगा | आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी या इस पोस्ट से संबंधित कुछ सवाल है तो Comment Box में Comment जरूर करे | हमारी इस पोस्ट को Social Media Site पर भी जरूर share करे | हमारे साथ बने रहने के लिए Social Media Site पर हमें Follow जरूर करे | धन्यवाद्
   
Read More

Saturday, 6 January 2018

WiFi क्या है ? Wifi कैसे काम करता है ? इसकी जानकारी हिंदी में

नमस्कार दोस्तों आपका हमारे WebRaksha वेबसाइट पर स्वागत है | आप सब WiFi Technolgogy से तो आप अच्छी तरह परिचित होंगे ही | आज की इस पोस्ट में हम WiFi क्या है और ये कैसे काम करता है इसके बारे में चर्चा करेंगे |Internet की रोचक जानकारी हिंदी में पढ़िए 


WiFi क्या है ?

Wifi का मतलब है Wireless Friendly | WiFi Technology का अविष्कार John O'Sullivan और John Deane ने 1991 में किया |  WiFi एक Wireless Networking Protocoll है जिसमे Radio Waves का उपयोग करके Networking Connectivity Provide की जाती है | WiFi जो की IEEE 802.11 Standard Base पर काम करती है | तो चलिए सबसे पहले IEEE 802.11 Standard क्या है इसके बारे में विस्तार से चर्चा करते है |

IEEE 802.11 Standard क्या है ?

1997 में Institute of Electrical and Electronics Engineers ( IEEE ) ने पहला WLAN Standerds का निर्माण किया जिसे IEEE 802.11 कहा जाता है | इसका शुरू में DATA Speed 2mbps था | IEEE 802.11 जो की Wireless Local Area Network ( WLAN ) Computer Communication में  Frequency Brand को Implement करने के लिए Media Access Control ( MAC ) Physical Layer Specification का एक Set है |

1999 में IEEE 802.11a Standerd का निर्माण किया गया | इस में Data Speed 54 mbps और Frequency 5 GHZ है |

1999 में ही IEEE 802.11b Standerd का निर्माण किया गया | इस में Data Speed 11 Mbps और Frequency 2.4 GHZ है |

2003 में IEEE 802.11g Standerd का निर्माण किया गया | इस में Data Speed 54 Mbps है और  Frequency 2.4 GHZ है |

2009 में IEEE 802.11n Standerd का निर्माण किया गया | इस में Data Speed 300 Mbps है और Frequency 2.4 GHZ है |

IEEE 802.11ac जो की Newest Generation Standerd है | इसका निर्माण 2013 में किया गया |  इसकी 5 GHZ Frequency पर 1300 से ज्यादा Data speed है और 2.4 Frequency पर 450 Mbps से ज्यादा Data Speed है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

 WiFi कैसे काम करते है ?

Wifi Technology को Computer, Laptop, Mobile, Tablets, Digital Camera, Smart TV, Digital Audio Players और Medern Printers में Use किया जाता है | तो चलिए Wifi कैसे काम करता है इसको हम विस्तार से जानते है |

WiFi Technology में Main Role होता है Router का ,  Router को Phone या Cable के साथ Connect किया जाता है,Internet Service Provider ( ISP ) द्वारा भेजे गए Binary SignalsData ) को Router द्वारा Recieve किया जाता है | भेजे गए Binary Signals को Router द्वारा Radio Signals में Convert किया जाता है | Convert किये गए Radio Signals को हवा के माध्यम से Electronics उपकरण जैसे की  Laptop, Smartphone, Tablets या Game Console पर Recieve करके Internet का उपयोग किया जाता है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

अगर हम सार्वजनिक स्थान ( Downtown Center, Cafes, Airports and Hotels ) पर Network Device द्वारा Internet का उपयोग करते है उसे WiFi Hotspot कहा जाता है | Hotspot मतलब की Wireless Access Point ( WAP )जो आपके Mobile या Laptop जैसे उपकरणों में सार्वजनिक स्थान पर Internet का उपयोग करने की सुविधा प्रदान करता है |

WiFi सबसे अधिक 2.4 gigahertz ( 12 cm ) UHF और 5.8 gigahertz ( 5cm ) SHF ISM Radio Band का उपयोग करता है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

We hope की आपको हमारी ये पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी | आपको हमारी Post कैसी लगी इसके बारे में Comment Box में Comment जरूर करे | साथ ही हमारी इस पोस्ट को Social Media Site पर जरूर Share करे | धन्यवाद 

Read More