Monday, 21 August 2017

What is ARPANET ? दुनिया का पहला INTERNET नेटवर्क : जानिए हिंदी में

नमस्कार दोस्तों ! आपका हमारे  WebRaksha ब्लॉग पर स्वागत है | दोस्तों हम सब लोग अब इंटरनेट से अच्छी तरह से परिचित हो गए है |  इंटरनेट अब हमारे जीवन का एक जरुरी हिस्सा बन चूका है आप सब लोगोंको ये जानने की जरूर उत्सुकता होगी की इंटरनेट की खोज किसने, कहा और कैसे की है | आप लोगों की जानकारी के लिए ये बता देते है की इंटरनेट की खोज किसी एक व्यक्ति ने नहीं की है , किसी एक देश ने नहीं की है या किसी एक संस्था ने नहीं की है | इंटरनेट के निर्माण में अनेक वैज्ञानिक, इंजीनियर, अनेक देश, अनेक संस्थाओंका योगदान रहा है | आज की इस पोस्ट में हम विश्व का पहला इंटरनेट नेटवर्क ARPANET की जानकारी शेयर कर रहे है |

what-is-ARPANET-in-hindi

ARPANET का संक्षिप्त रूप ( Full Form Of AARPANET )

ARPANET का संक्षिप्त रूप इस प्रकार है : The Advanced Research Project Agency Network

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

ARPANET क्या है ?  ( What is ARPANET ? )

ARPANET दुनिया का पहला Packet Switching और IP/TCP (Internet Protocol / Transmission Control Protocol ) का प्रयोग करके बनाया गया नेटवर्क है | ARPANET इंटरनेट के History में  दुनिया का  पहला इंटरनेट नेटवर्क माना जाता है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

ARPANET का निर्माण ( Invent of ARPANET )

ARPANET का निर्माण 1969 में अमेरिका के Difence Dipartment के  The Advanced Research Project Agency  द्वारा किया गया | ARPANET के निर्माण में अनेक शोधकर्ताओं का महत्वपूर्ण सहयोग रहा है |  Winton Gray Sirf और Bob Kahn जो की IP/TCP Protocol के शोधकर्ता है | अमेरिका के वैज्ञानिक Leonard Kleinrock , Paul Baran, Lawrence Roberts और ब्रिटिश वैज्ञानिक Donald Davies  जो की Packet Switching के शोधकर्ता है | Ray Tomlonson जिन्होंने पहली बार नेटवर्क ईमेल का परिचय कराया | साथ ही Louis Pouzin के फ्रेंच CYCLADES प्रोजेक्ट की संकल्पना| इन सबका ARPANET के निर्माण में महत्वपूर्ण सहयोग रहा है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

ARPANET का विस्तार ( Progress of ARPANET )

1970 में जैसे ही ARPANET का नेटवर्क कार्यरत हो गया तो इस नेटवर्क के साथ कई संस्थाए , कंपनिया और यूनिवर्सिटीज़ जुड़ गई |  जैसे की Bolt, Beranek और Newman ये कंपनियां ARPANET के साथ जुड़ गई |

1971 में TIP (Terminal Interface Processor ) तकनीक का प्रयोग ARPANET में किया गया | इस तकनीक की मदत से  ARPANET से जुड़ा हुआ हर कोई व्यक्ति अपने व्यक्तिगत कंप्यूटर से  ARPANET के नेटवर्क के साथ कनेक्ट किये गए किसी भी कंप्यूटर से कनेक्ट होके उस कंप्यूटर की जानकारी प्राप्त कर सकता है | उस कंप्यूटर की जानकारी को अपने कंप्यूटर में सेव कर सकता है | या उस कंप्यूटर को कोई भी जानकारी भेज सकता है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

1972 में Ray Tomlonson ने  ARPANET के लिए Email ( Electronic Mail ) प्रनाली विकसित की | Email से आप सब लोग अच्छी तरह से परिचित हैं | इन्होने ईमेल प्रनाली को विकसित करने के लिए SNDMSG और READMAIL एप्लिकेशन का प्रयोग किया | ईमेल प्रणाली में यूजर्स और यूजर्स द्वारा होस्ट किया गया कंप्यूटर  के शब्दों को एक साथ जोड़ने के लिए " @ " सिम्बॉल का प्रयोग किया गया | इस सिम्बॉल को हम आज भी प्रयोग करते है |

1972 में ही ARPANET के साथ 24 साइट्स कनेक्ट हो गए | जिनमे National Science Foundation, NASA और Federal Reserve Board भी शामिल थे |

1973 में ARPANET पर साइट्स की संख्या 37 हो गई | जिनमें Callifornia से लेके Havaii द्वीप समूह तक की satelite Link भी शामिल थी |

1974 में ARPANET से 111 कम्प्यूटर्स कनेक्ट हो गए |

1982 में IP/TCP Protocoll का प्रयोग ARPANET में किया गया | IP/TCP Protocoll का कार्य इस प्रकार है : इंटरनेट नेटवर्क में इस IP/TCP Protocoll का प्रयोग Communication Protocoll के रूप में किया जाता है | ये Protocol तय करता है की Network Adapter, Hubs, Switches, Routers, और other Network Communication Hardware द्वारा कितना डेटा भेजना है और प्राप्त करना है |

1983 में MILNET ( Military network or Militery net ) को ARPANET नेटवर्क से अलग किया गया | MILNET का उपयोग अमेरिका के Unclassified United States Department of Defence ( DoD ) के लिए किया जाता था |

1985 में ARPANET का विस्तार North America, Europe और Austrelia तक हो गया |

1990 में ARPANET की सेवा बंद हो गयी | ARPANET के साथ जो भी संस्थाएं और यूनिवर्सिटीज कनेक्ट थी वो सब NSFNET नेटवर्क के साथ कनेक्ट हो गयी |
 
हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

आशा करता हु की आपको हमारी ये जानकारी जरूर पसंद आयी होगी | आपको हमारी जानकारी कैसी लगी इसके बारे में आप कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे | साथ ही आप हमारी इस जानकारी को सोशल मिडिया साइट पर भी अपने दोस्तों को शेयर कर सकते है | साथ ही आप हमें सोशल मीडिया साइट पर फॉलो कर सकते है | फेसबुक पर हमारे " WebRaksha " पेज को जरूर लाइक करे | धन्यवाद् !
Read More

Thursday, 17 August 2017

10 Amazing Fact About Mobile Phone in Hindi

नमस्कार दोस्तों ! आपका हमारे " WebRaksha " ब्लॉग पर स्वागत | दोस्तों मोबाईल हम सबके जीवन  का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है | मोबाईल के अविष्कार से हम सबके जीवन एक क्रन्तिकारी बदलाव आया है | इसके बीना हम अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते है | आज के ज़माने का मोबाईल सिर्फ Incoming या Outgoing कॉल्स के लिए सिमित नहीं है बल्कि विडिओ गेम्स और इंटरनेट जैसे सुविधाओं का भी हम अपने मोबाईल पर आसानी से लाभ उठा सकते है | आज की इस पोस्ट में हम मोबाईल फोन से संबंधित कुछ रोचक जानकारी शेयर कर रहे है |


मोबाईल फोन से संबंधित कुछ रोचक जानकारी :


1. मोबाईल फोन पर पहला Out-Going कॉल 1973 में " Martin Cooper " द्वारा किया गया था |

2. सबसे पहला मोबाईल फोन US  में 1983 में बेचा गया जिसकी कीमत 4000 डॉलर  थी |

3. दुनिया भर के 70 % मोबाईल फ़ोन का चाइना में उत्पादन होता है |

हमारी ये पोस्ट भी पढ़िए :
फ्री में ब्लॉग / वेबसाइट कैसे बनाए इसकी पूरी जानकारी हिंदी में 

4. अब तक का दुनिया का हाईएस्ट मोबाईल  मंथली बिल " 142,000 Pounds " है | 1 Pounds की कीमत 82.45 रुपये है |

5. मोबाईल फोन की Industry दुनिया की सबसे बड़ी  Fastest Growing Industry है |

6. दुनिया में इलेक्ट्रॉनिक गॅजेट के इतिहास में सबसे अधिक बेचे जानेवाला मोबाईल फ़ोन है " Nokia 1100 " | इसके अब तक 250 Millions पीस बेचे गए है |

हमारी ये पोस्ट भी पढ़िए :
Hackers पासवर्ड को कैसे Hack करते है और इससे कैसे सुरक्षित रहे 

7 . जापान एक ऐसा देश है, जहा पर 90 % मोबाईल Water Proof है |

8. आज के समय में हम जो  मोबाईल फोन यूज कर रहे है उसकी "Computing Power " NASA द्वारा चाँद पर भेजा गया " Apollo 11 " अंतिरिक्ष यान में जो कंप्यूटर यूज किया गया था उससे भी कई ज्यादा है |

हमारी ये पोस्ट भी पढ़िए :
Facebook अकाउंट को कैसे सुरक्षित रखे इसकी पूरी जानकारी हिंदी में 

9.  " Diamond Rose iPhone 32 GB " ये मोबाईल फ़ोन दुनिया का सबसे महंगा मोबाईल है , जिसकी कीमत 52,190,1000 रुपये है |

10. दुनिया में सबसे ज्यादा मोबाईल यूज करने वाले देशो में नंबर 1 पर चाइना है , नंबर 2 पर भारत है, और नंबर 3 पर है यूनाइटेड स्टेट ऑफ़ अमेरिका है |

हमारी ये पोस्ट भी पढ़िए :
Google कंपनी की पूरी जानकारी हिंदी में 

आशा करता हु की आपको हमारी ये जानकारी जरूर पसंद आई होगी | आपको हमारी ये जानकारी कैसी लगी इसके बारे मे आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे | आप हमारी इस जानकारी को सोशल मिडिया साइट पर अपने दोस्तों को भी शेयर कर सकते है | आप हमें सोशल मीडिया साइट पर भी फॉलो कर सकते है | हमारे वेबसाइट से जुड़े रहने के लिए Facebook पर हमारे " Webraksha " पेज को जरूर लाइक करे | धन्यवाद !         
Read More

Monday, 14 August 2017

हमारे भारत देश की कुछ महत्वपूर्ण जानकारी :जानिए हिंदी में

नमस्कार दोस्तों ! आपका हमारे " WebRaksha " ब्लॉग पर स्वागत है | सबसे पहले तो आप सब को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायए  | आप सब जानते ही है की हमारा देश 200 वर्ष तक ब्रिटिश शासन के नियंत्रण में था | 15 अगस्त 1947 में हमारा देश स्वतंत्र हुआ | तबसे हम सब 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते है | आज की इस पोस्ट में  हम हमारे भारत देश से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारी शेयर करने जा रहे है |

independence-day

हमारे देश का नाम भारत कैसे पड़ा :

हमारे भारत के महान संतकवी कालिदास जी के लिखे हुए संस्कृत ग्रन्थ " अभिज्ञान शाकुंतलम " के एक वृत्तांत के अनुसार राजा दुष्यंत और उनकी पत्नी शकुंतला के पुत्र भरत के नाम से हमारे देश को भारत नाम से जाना जाता है | पुरातन काल में भारत को आर्याव्रत के नाम से भी जाना जाता था |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :
फ्री में ब्लॉग / वेबसाइट कैसे बनाये इसकी पूरी हिंदी में 

कुछ ऐतिहासिक जानकारी :

भारत एक बहुतही  प्राचीन देश है | जब दुनिया में अज्ञान का घोर अंधेरा था तब भारत में वेद,भौतिक शास्त्र , गणित, ज्योतिष, अर्थशास्त्र, आयुर्वेद, योगा जैसे शास्त्रोंका उदय हुआ था |

हमारा ब्रम्हांड पंचमहाभूतों ( भूमी, जल, अग्नि, वायु और आकाश ) से बना है इस बात से सबसे पहले  हमारे भारत के वैज्ञानीकोने पूरी दुनिया को अवगत कराया |

ऋषि कणाद द्वारा लिखे गए " वैषेशिक दर्शन " में अणु और परमाणुओंकी विस्तार से जानकारी आपको मिलेगी |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

आचार्य चाणक्य से आप अच्छी तरह से परिचित होंगे | इन्हे आर्यभट्ट के नाम से भी जाना जाता है | 
थोर गणितज्ञ आर्यभट्ट ने शुन्य का परिचय पुरे विश्व को कराया | साथ ही संकेतन प्रणाली, दशमलव प्रणाली, त्रिभुज क्षेत्रफल ये उपलब्धि भी इन्ही की है |

आर्यभट्ट ने सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण के कारणोंका पता लगाया | सूर्य अपनी जगह स्थिर है और पृथ्वी सूर्य के चारो ओर परिक्रमा करती है ये भी बताया | साथ ही पृथ्वी गोल है और पाई का मूल्य 3. 1416 है ये भी बताया |  

दोस्तों अगर गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत बारे में पूछा जाए तो आपके दिमाग में न्यूटन का ही नाम आएगा लेकिन 
न्यूटन से 500 वर्ष पहले भारतभूमी के महान गणिततज्ञ ब्रम्हगुप्त ने गुरुत्वाकर्षण के सिध्दांत का कथन किया था | इनका गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत इस प्रकार है : " पृथ्वी अपनी आकर्षण शक्ति से हर वस्तू को अपनी ओर खींचती है | इस आकर्षण शक्ति के कारन ही हर वस्तु पृथ्वी पर गिरती है | "

प्राचीन भारत में धातु विज्ञानं भी काफी विकसित हो गया था | लोहा, तांबा, सोना, चांदी जैसे धातुओंका उत्पादन करके उसका पश्चिमी देशोंके साथ व्यापर होता था |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

आयुर्वेद और योगा से आप लोग तो अच्छी तरह से परिचित होंगे ही |
चरक द्वारा लिखे गए चरकसंहिता में अनेक रोगोंका उपचार और आहार पद्धति द्वारा रोगोंके नियंत्रण का विस्तृत परिचय दिया गया है |

8 वी शताब्दी से लेकर 12 वी शताब्दी तक भारत विश्व में शिक्षा का सबसे बड़ा केंद्र बन गया था | नालंदा और तक्षशिला ये दो विश्वविद्यालय विश्व में सबसे प्रसिद्ध विश्वविद्यालय थे |

कुछ महत्वपूर्ण जानकारी :

क्षेत्रफल की दॄष्टि से दुनिया में भारत 7 वे स्थान पर है |
जनसंख्या में भारत दूसरे स्थान पर है |
भारत विश्व में सबसे बड़ा लोकतान्त्रिक देश है |
भारत एक कृषिप्रधान देश है |
भारत का राष्ट्रिय खेल हॉकी है |
भारत का राष्ट्रिय पक्षी मोर है |
भारत का राष्ट्रिय पशु चिता है |
भारत का राष्ट्रिय फूल कमल है |
भारत का राष्ट्रिय फल आम है |
भारत की राष्ट्रीय भाषा हिंदी है |
भारत का राष्ट्रगान " जन गण मन " और " वन्दे मातरम " है |
संस्कृत भाषा भारत की सबसे प्राचीन भाषा है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

दोस्तों हमारा प्राचीन भारत हर क्षेत्र में नंबर 1 पोजीशन पर था | हमारी देश की अर्थव्यवस्था भी नंबर 1 पोज़िशन पर थी | हमरे देश को सोने की चिड़िया कहा जाता था | यही कारन था की विदेशी आक्रमण कारी हमारे देश की तरफ आकर्षित हुए | दुर्भाग्यवश विदेशी आक्रमणोंसे हमारे देश का पतन होता गया | 
तो चलिए दोस्तों आज के स्वतंत्रता दिवस पर हम सब ये तय करते है की , हम अपने भारत देश को स्वच्छ, समृद्ध, वैभवशाली, बलशाली बनाने का प्रयास करते है और हम अपने देश को वापस नंबर 1 पोज़िशन पर लायेंगे |

Read More

Friday, 11 August 2017

Blue Whale Game क्या है और इससे कैसे सुरक्षीत रहे ?

नमस्कार दोस्तों आपका हमारे WebRaksha वेबसाइट पर स्वागत है | दोस्तों इंटरनेट की इस भूल भुलय्या दुनिया में कुछ लोग इस कदर खो जाते है की उनको अपने आसपास का थोड़ा भी ध्यान नहीं रहता | ऐसे लोग हमेशा ही मोबाईल से चिपके रहते है | इसे एक बुरी आदत ही कहा जा सकता है | हमेशा यही देखा गया है की ऐसे ही लोग किसी बुरे हादसे का शिकार हो जाते है | या किसी गंभीर समस्या में फस जाते है |

आज की इस पोस्ट में हम आपको Blue Whale नामक एक खतरनाक गेम की जानकारी दे रहे है | खास तौर पर उनके लिए ये जानकारी बहुत ही महत्वपूर्ण है जिनको मोबाईल में हमेशा चिपके रहने की बुरी आदत है  और जिनकी उमर 18 साल से कम है | और उन माता पिताओंके लिए भी जिनके बच्चे 18 साल से कम उमर के है और मोबाईल पर हमेशा चिपके रहते है |


blue-whale-ki-jankari

 Blue Whale Game क्या है ?             

ब्लू व्हेल गेम कोई ऑनलाइन डाउनलोड होनेवाला गेम नहीं है जिसे आप किसी Playstore में से या किसी वेबसाइट से डाउनलोड नहीं कर सकते | ये कोई ऎप्स, प्रोग्राम या सॉफ्टवेयर भी नहीं है |इस गेम को आप मोबाईल, टॅब या पीसी पर भी नहीं खेल सकते है | इस गेम को सोशल मिडिया साइट्स द्वारा उन बच्चों तक पहुँचाया जाता है जिनकी उम्र 18 साल से कम है |  जहा एक क्यूरेटर इनसे बात करता है | और उन्हें इस गेम को खेलने लिए मजबूर करता है |  

हमारी इस पोस्ट को भी जरूर पढ़े :
फ्री में ब्लॉग या वेबसाइट कैसे बनाये इसकी पूरी जानकारी हिंदी में 

ब्लू व्हेल गेम एक खतरनाक गेम है जो प्लेयर्स को सुसाइड करने के लिए मजबूर करती है  | इस गेम को पूरा करने के लिए प्लेयर्स को 50 दिन का समय मिलता है | इस गेम के क्यूरेटर द्वारा प्लेयर्स को हर एक दिन एक चॅलेंजिंग टास्क दिया जाता है | जैसे की किसी साधारण विडिओ गेम में हमें स्टेप्स दिए जाते है और हर एक स्टेप्स को पूरा करके गेम को कंप्लीट करना होता है | 

इस ब्लू व्हेल गेम में शुरुवात में आपको आसान से चॅलेंजींग टास्क दिए जाते है | जैसे की कागज पर ब्लू व्हेल की खतरनाक तस्वीर बनाना, रात के अंधेरे में किसी भयानक जगह जाना, हॉरर मूव्ही देखना | ये सब चॅलेंज पूरा करने पर आपको खतरनाक चॅलेंज पूरा करने का टास्क दिया जाता है | जैसे की ब्लेड से अपने हातो पर ब्लू व्हेल की तस्वीर बनाना,  हातो की 3 नसे काटना,  पैरो पर ब्लेड से S बनाना ऐसे कई खतरनाक चॅलेंज को पूरा करके उसकी फोटो खींच के गेम क्यूरेटर को भेजना होता है | अंतिम चॅलेंज टास्क ये होता है की छत पर से या बिल्डिंग से छलांग मारके आत्महत्या करना |


हमारी इस पोस्ट को भी जरूर पढ़े :
ऑनलाइन पैसे कमाए दुनिया की टॉप वेबसाइट पर जानिए हिंदी में 

The Blue Whale गेम की शुरुवात कहा और किसने की ?     

इस खुनी और खतरनाक गेम की शुरुवात " रूस " में 2013 में हुई | इस गेम को Psycology Student " Philip Budeikin " नामक व्यक्ति ने बनाया | यह व्यक्ति अभी जेल में कैद है |


इस ब्लू गेम के आज तक कितने व्यक्ति शिकार हुए है ?        

इस गेम के प्रभाव आकर दुनिया भर में आज तक 250 व्यक्तियो ने आत्महत्या की है |इनमे से 130 बच्चे रूस के है |  आत्महत्या करने वाले सभी व्यक्ति युवक, युवती, किशोर अवस्था के थे |

भारत में मुंबई के अंधेरी ईस्ट में एक 14 वर्षीय बच्चे ने इस गेम को खेलने के बाद 6 मंजिला ईमारत से कूदकर आत्महत्या कर ली |

दूसरी घटना है इंदौर की जहा पे 7 वी कक्षा के एक छात्र ने ब्लू व्हेल गेम खेलते हुए आत्महत्या करने का प्रयास किया | उसके दोस्तों ने उसे बचा लिया |

हमारी इस पोस्ट को भी जरूर पढ़े :
फेसबुक की जानकारी और कुछ रोचक बाते जानिए हिंदी में 

ब्लू व्हेल गेम से कैसे सुरक्षित रहे ?

दोस्तों हमारी इस जानकारी से आप जान गए होंगे की आप अपने दोस्तों को ये सलाह तो नहीं दे सकते की इस ब्लू व्हेल गेम को अपने मोबाईल या पीसी में इंस्टॉल ना करे | अब आप इस सोच में पड़ गए होंगे की इस ब्लू व्हेल गेम से कैसे सुरक्षित रहे ? तो चलिए ये जान लेते है की इस खतरनाक गेम से कैसे सुरक्षित रहे | 

ब्लू व्हेल गेम की घटनाओं से ये नतीजा सामने आया है की बच्चे ही इस गेम का ज्यादातर शिकार हो रहे है |ऐसे में हर माता पिता की जिम्मेदारी है की वो अपने बच्चों को इस गेम के बारे और इसके गंभीर परिणामों से अवगत कराये | इसके साथ बच्चों की हर ऑनलाइन गतिविधि पर नजर रखे | खास तौर पर सोशल मिडिया अकॉउंटस पर उनकी प्रोफइल चेक करे जैसे की :

  • फ्रेंड लिस्ट चेक करे 
  • ग्रुप और पेजेस चेक करे 
  • रोजाना नोटिफिकेशन चेक करे 
  • किसके साथ चॅटींग करते है ये चेक करे 
  • अपलोड, डाउनलोडकिये गए  विडिओज और फोटोज चेक करे 
  • ईमेल अकाउंट चेक करे 
  • ब्राउज़र हिस्ट्री चेक करे 
हमारी इस पोस्ट को भी जरूर पढ़े :
Google की जानकारी हिंदी में 


साथ ही बच्चों की भौतिक गतिविधि पर भी नजर रखे | अगर कोई बच्चा इस गेम की चपेट में आ जाता है, तो वो कुछ इस तरह से बर्ताव करता है ,

  • ऐसे बच्चे बात बात पर झगड़ते है 
  • हमेशा बंद कमरे में रहते है 
  • समय पर खाना नहीं खाते है 
  • कसीसे ज्यादा बात नहीं करते है 
  • देर रत तक जागते है 
  • हमेशा डरे हुए रहते है 
  • ये चेक करे की बच्चों के शरीर पर ब्लेड से या चाकू से कोई स्क्रॅचेस तो नहीं है 

स्कूलो में भी इस गेम से दूर रहने के लिए बच्चों को अच्छी तरह से मार्गदर्शन मिलना चाहिए | स्कूल में हर कंप्यूटर शिक्षक अपने छात्र को इसके बारे मे पूरी जानकारी दे |

हमारी इस पोस्ट को भी जरूर पढ़े :
इंटरनेट की रोचक जानकारी हिंदी में 

आशा करता हु की आपको हमारी ये जानकारी जरूर पसंद आयी होगी | आपको हमारी ये जानकारी कैसी लगी इसके बारे में आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे | साथ ही आप सबको हमारा ये अनुरोध है की आप हमारी इस पोस्ट को सोशल मीडिया साइट पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करे | धन्यवाद ! 
Read More

Wednesday, 2 August 2017

Hackers पासवर्ड को कैसे Hack करते है और इससे कैसे सुरक्षित रहे ? इसकी जानकारी हिंदी में

नमस्कार दोस्तों ! आपका हमारे " Web Raksha " वेबसाइट पर स्वागत है | आजकल इंटरनेट की रफ़्तार जिस तेजीसे बढ़ रही है , उसी के साथ इंटरनेट की सुरक्षा एक  गंभीर विषय बन गया है | इंटरनेट का उपयोग जिस तरह से अच्छे कामो के लिए हो रहा है उसी तरह बूरे कामोके लिए भी हो रहा है |

"हॅकिंग" इंटरनेट की सुरक्षा का एक गंभीर विषय बन गया है | हॅकिंग जैसी एक अच्छी प्रणाली का  कुछ बॅड  हॅकरस द्वारा गलत उपयोग हो रहा है | इन बॅड हॅकर का मकसद ये होता है की दूसरों के कंप्यूटर को हॅक करके उस मशीन से डेटा या पासवर्ड चुराना या उस मशीन के सिस्टम को हानी पहुंचाना |

 आज की इस पोस्ट में हम पासवर्ड की सुरक्षा संबंधी विषय पर चर्चा करेंगे | क्योंकि जब भी हम किसी हॅकर  शिकार होते  तो ज्यादातर हॅकर हमारे पासवर्ड को ही हॅक करते है | उदहारण के लिए : Email Password, Social Media Password, Online Banking Password, Credit/ Debit Card Password etc .

password-safety-in-hindi

किस तरह से हैकर्स हमें टार्गेट करते है ?


1. WIFI Monitering attack :

जब हम किसी Wifi नेटवर्क से कनेक्ट होके इंटरनेट का यूज कर रहे है उसी समय किसी वेबसाइट पर हम लॉगिन करते है तो हॅकर "Wifi Monitering" के जरिये हमारी पूरी ऑनलाइन गतिविधि को हॅक करने  में सफल हो जाता है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

2. Phishing Attack : Tab Nabbing :-

कइ बार युजर्स ब्राउज़र मे मल्टीपल टॅब ओपन करते है और सर्फिंग करते है | उसी समय हॅकर युजर द्वारा ओपन किये गये किसी एक टॅब को टार्गेट करता है | हॅकर एक "Special Jawascript Code" द्वारा टॅब मे ओपन किये गये ओरिजनल वेबपेज को फेक वेबपेज में चुपके से बदल देते है | जब युजर्स टॅब पर क्लिक करते है तो स्क्रीन पर  जो वेबपेज दिखाई देता है वो ओरिजनल वेबपेज कि तरह हि दिखता है | युजर्स जो भी जानकारी उस वेबपेज पर सबमिट करते है , वो हॅकर तक आसानी से पहुंच जाती है |  जैसे कि Username और Password

Phishing Attack – Key Loggers Attack :

Keyloggers  बेसीकली एक Computer Programm है | जो युजर्स के किस्ट्रोक को रिकॉर्ड करने के लिये बनाया गया है | हॅकर द्वारा आपको आपके मेल आयडी पर एक मेल भेजा जाता है | जैसे हि आप मेल को ओपन करते है तो उस मेल मे Malicious Attachment रहती है | जैसे हि आप उस Attachment पर क्लिक करते है तो बिना आपके जानकारी के एक  Malicious Jawascript फाईल आपके पीसी मे प्रवेश करती है और Keyloggers Software को Install करती है | जैसे हि आप कूछ भी टाइप करते है तो हर किस्ट्रोक को रेकॉर्ड किया जाता है खास तौर पर Username और Password | ये सब रेकॉर्ड हॅकर को भेजा जाता है |

RAT Attack :-

RAT का फूल-फॉर्म है Remote Access Trojan है | ये एक Malicious Programm है | RAT बिना आपके जानकारी के आपके PC मे Install होता है | इसमे हॅकर बिना आपके जानकारी के आपके पीसी से कनेक्ट होता है और आपके स्क्रीन पर क्या चल रहा है ये सबकूछ हॅकर देख सकता है | इससे हॅकर आसानीसे कोई भी फाईल आपके हार्डडिस्क मे से उसके कॉम्पुटर मे कॉपी कर सकता है |

Trojan Horses Attack : -

Trojan Horses एक Computer Malicious Program है | जब भी हम ऑनलाईन कोई फ्री Software पीसी मे Download करने का प्रयास करते है, खासतौर पर किसी भी अनट्रस्टेड  साईट पर तब आपके साथ धोका होता है | उस Software के बदले Trojan आपके पीसी मे Download हो जाता है | Keyloggers और RAT से भी अधिक प्रभावशाली Trojan होता है |
Trojan Horses  कइ बार Email Attachment से भी download हो जाता है |

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

हॅकर से अपने Password को कैसे सुरक्षित रखे ?


  1. पहले तो आपके कंप्यूटर  मे एक अच्छा सा  Antivirus को Install करे |
  2. Password को हमेशा बदलते रहे |
  3. हर एक साईट के लिये अलग अलग Password का चुनाव करे | सभी साईट के लिये एक जैसा Password ना रखे |
  4. किसी भी साईट के लिये Password बनाते समय Uppper Case, Lower Case, Number और Symbol का प्रयोग करे | 
  5. अगर हर एक साईट का Password याद रखना मुश्कील हो रहा है तो Password Manager का उपयोग करे |
  6. Log –in प्रोसेस के लिये "Two Step Authentication" का प्रयोग करे | इसका मतलब पहले स्टेप मे Username और Password सबमिट करे | दुसरे स्टेप मे OTP कोड आपके Email Id पे या मोबाईल पर भेजा जाता है | उस OTP कोड को ऐड करके Log-in करना है | 
हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :
आशा करता हु की आपको हमारी ये जानकारी बहुत पसंद आयी होगी | आपको हमारी ये जानकारी कैसी लगी इसके बारे में आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे | साथ ही इस जानकारी को आप अपने दोस्तों को सोशल मिडिया साइट पर भी शेयर कर सकते है | आप हमें सोशल मीडिया साईट पर भी फॉलो कर सकते है | धन्यवाद् !



Read More

Thursday, 29 June 2017

NEOBUX क्या है ? इस पर कैसे रेजिस्ट्रेशन करके ऑनलाइन पैसे कमाये ? : इसकी पूरी जानकारी हिंदी में

       नमस्कार दोस्तों! आपका हमारे "Web Raksha" ब्लॉग पर स्वागत  है |वर्तमान  समय में इंटरनेट के उपयोग से हमारे बहुत से काम आसान हो गए है | हर क्षेत्र में इंटरनेट का उपयोग बहुत ही फायदेमंद साबित हो रहा है | आज की इस पोस्ट में इंटरनेट के माध्यम से हम अपने लिए कैसे रोजगार का निर्माण कर सकते है इसके बारे में जानकारी शेयर कर रहे है | इंटरनेट पर ऐसी बहुत सारी वेबसाइट है जिस पर काम करके हम अपने लिए एक अच्छा रोजगार का निर्माण कर सकते है | उनमे से एक Neobux वेबसाइट है | जिसकी जानकारी मै आज की इस पोस्ट में शेयर कर रहा हु | 


about-neobux


हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े : 


Neobux क्या है ?

Neobux एक PTC वेबसाइट है | PTC का मतलब है Paid to Click ( क्लीक करो और पैसे कमाओ ) | बिना किसी इन्वेस्टमेन्ट के आप Neobux वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कर सकते है |  

Neobux पर कैसे पैसे कमाते है ? 


1. View Addvertisment  

इस वेबसाइट पर आपको रोजाना 20 से 25 विज्ञापन (Advertisment) दिखाए जाते है | उन विज्ञापन पर आपको क्लीक करना है और उन्हें देखना है | इन विज्ञापन को देखने पर आपको 0.01 से 0.001 डॉलर का भुगतान ( Paid ) होता है | 


२. Coin Offer 

Coin Offer में आपको Complete Survay, Download Apps, Playing Games, Online Video, Complete Task,के जरिये आप ऑनलाइन पैसे कमा सकते है |  


3. Mini Job 

Neobux आपको CrowdFlower वेबसाइट की तरफ से Mini Job पूरा करने की सुविधा प्रदान करता है | इस Mini Job को  पूरा करके भी आप Neobux पर अच्छी कमाई कर सकते है | 


4. Refferal

अगर आपके जरिये और भी लोग Neobux को जॉइन करते है और ऑनलाइन कमाई करते है  इससे आपको कमीशन मिलती है | इससे भी आप अच्छी कमाई कर सकते है|  


Neobux आपकी पेमेंट कैसे करता है ?

Neobux पर आप जितनी भी कमाई करते है, वो सीधे आपके बैंक खाते में ट्रान्सफर नहीं होती | इसके लिए आवश्यक है की आपका Paypal, Payza, Poineer जैसी वेबसाइट पर अकाउंट होना जरुरी है | आपकी रिक्वेस्ट पर Neobux आपका पेमेंट इन वेबसाइट पर ट्रान्सफर करती है | इसके बाद ये वेबसाइट आपका पेमेंट सीधे आपके बैंक खाते में जमा करती है | 

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े : 




Neobux को जॉइन करने के लिये क्या आवश्यक है ?

1. Email Id 
2. Paypal, Payza or Poineer Account  


Neobux पर अकाउंट कैसे बनाये ?


Step 1 :



Neobux पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए ऊपर दी गयी इमेज पर क्लीक करे | अब आपके सामने Neobux का होमपेज ओपन होगा | यहाँ पर आप रजिस्ट्रेशन पर क्लीक करे | 


Step 2 :



अब आपके सामने रजिस्ट्रेशन पेज ओपन होगा | इस पेज पर एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म दिया जायेगा | उस फॉर्म में आपको जानकारी भरकर रजिस्ट्रेशन पूरा करना है | 
1 .यहाँ पर कोई अच्छा सा यूजरनेम टाइप करे | 
2 .यहाँ पर कोई अच्छा सा पासवर्ड टाइप करे | 
3 .यहाँ पर पासवर्ड दुबारा टाइप करे | 
4 .यहाँ पर आप अपना Email-id टाइप करे | 
5 .यहाँ पर अपने Paypal/ Payza के लिए जो ईमेल-आईडी का उपयोग किया है ,वो Email -Id टाइप करे | 
6 .अगर आपने ऊपर दी गयी इमेज पर क्लीक करके Neobux ओपन किया है तो ये ऑप्शन आपको नहीं आएगा | अगर आपने Neobux डायरेक्ट ब्राउज़र में ओपन किया है तो यहाँ पर आप "vishalsh2017" टाइप करे | 
7 . यहाँ पर आप अपना बर्थ ईयर टाइप करे | 
8 . यहाँ पर ब्रैकेट के सामने दिया गया कोड टाइप करे | 
9 . यहाँ पर टिक करे 
10. अब "Continue" पर क्लीक करे | 


Step 3 :

अब आपके सामने Verification पेज ओपन होगा | इससे पहले आप अपना इमेल अकॉउंट ओपन करे | ईमेल अकॉउंट पर इनबॉक्स में Neobux की तरफ से आया हुआ Verification ईमेल दिखाई देगा | उस ईमेल को ओपन करे | ईमेल में जो verification कोड है उस कोड को कॉपी करे करे | कॉपी किया हुआ कोड Neobux के verification पेज पर पेस्ट करके OK करे | अब आपका Neobux पर अकॉउंट रेडी हो गया है | 
    
हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े : 



आशा करता हु की आपको हमारी ये पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी | आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी इसके बारे में हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे | साथ ही आप हमारी इस पोस्ट को अपने दोस्तों में सोशल मीडिया साईट पर जरूर शेयर करे | आप हमें सोशल मीडिया साईट पर भी फॉलो कर सकते है | धन्यवाद् !
Read More

Friday, 16 June 2017

Facebook अकाऊंट को कैसे सुरक्षित रखे ? इसकी पूरी जानकारी हिंदी मे


नमस्कार दोस्तो ! आपका हमारे "Web Raksha" ब्लॉग पर स्वागत है | आज के दौर मे facebook एक लोकप्रिय सोशल नेटवर्किंग वेबसाईट है | क्या आप जानते है कि आपका facebook Accoont कितना सुरक्षित है ? खासकर महिलाओं को  इस बात को जनना बहूत जरुरी है | क्योंकी हमारे देश मे Fecebook पर महिलाए हि हॅकर्स का ज्यादातर शिकार होती है | महिलाओं के फेक Facebook Accounts बनाये जाते है | उनके फोटो, व्हिडीओज को का दुरुपयोग करके अश्लील वेबसाईटस पर भेजा जाता है |  ये हम सबके लिये एक चिंता विषय है | इसके लिये facebook ने भी अपने युजर्स कि सुरक्षितता को बढाया है | हमारा भी ये फर्ज बनता है कि हम अपने Account कि सुरक्षा के उपर ज्यादा ध्यान दे | आज कि इस पोस्ट मे सुरक्षा संबंधी जो उपाय बताये गये है अगर आप उसे फोलो करेंगे तो आपका facebook Accoont ८० प्रतिशत सुरक्षित हो जायेगा | तो चलिए दोस्तों अपने FB Account को कैसे सुरक्षित रखे इसे विस्तार से जान लेते है | 


facebook-suraksha


हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :


Profile Setting :


1. सबसे पहले आप अपने facebook Account पर जाये और Profile पर क्लिक करे 

2. अब आपके सामने आपका Profile Page ओपन होगा | पेज पर Edit Profile पर क्लिक करे |

3. अब आपके सामने एडीट पेज ओपेन होगा इस पेज पर आपको कूछ इस तरह से ऑप्शन्स दिखाई देंगे :

  1. Work
  2. Proffesional Skill
  3. High School
  4. Friends
  5. Photos
  6. Cheak ins
  7. Sport
  8. Music
  9. Movies
  10. TV Shows
  11. Books
  12. Apps and Games
  13. Likes
  14. Following
  15. Groups

इन सब ऑप्शन के राईट साइड मे एडीट ऑप्शन रहेगा | उस ऑप्शन पर क्लिक करके आप हर एक कि सेटिंग चेंज कर सकते है | ध्यान रहे कि "Friend list, Photo, Following, Likes , Groups" इत्यादी ऑप्शनस को "Public" कि जगह "Freind" या "Only Me" सेट करे | इससे आपके खास दोस्त या सिर्फ आप हि इन ऑप्शनस को देख सकते है |   
  

4. Contact and Basic Info


"Edit" पेज पर हि "About Info" के नीचे "Edit Your About Info" पर क्लिक करे | आपके सामने "About Info" का पेज ओपन होगा | इस पेज पर लेफ्ट साईड मे "Contact and Basic Info" का ऑप्शन दिखाई देगा | इस पर क्लिक करणे के बाद आपके सामने About Page ओपन होगा | इस पेज पर आपको आपकी "Contact Information, Website and Social Link, Basic Information" ये सारे options दिखाई देंगे | इसमे आपको contact Information जैसे कि मोबाईल नंबर, आपका personal Address, Email- ID इन सभी के लिये Only Me को हि सेट करना है | बाकी सब ऑप्शन को आप अपनी सुरक्षा के हिसाब से सेट करे | 


Genreral Setting :


1. strong password बनाये और महिने मे एक बार चेंज करे


Facebook acoount का password हमेशा बडा और Strong रखे | password मे Uppre Case Letter (A,B,C etc), Lower Case letter (a,b,c etc), Numbers (0 to 9), Sympols ( _ ,@, $ etc ) का प्रयोग करे | 12 से 14 Character का प्रयोग करे | Password मे अपने नाम का प्रोयोग ना करे |  उदाहरण के लिये : आप जिस घर मे रहते है उस घर का कलर अगर यलो है और आपके घर का नंबर 67 है इससे आप एक strong Password बना सकते है वो इस तरह से : yelowHOME_67 , YELLOhome@67, YELLOhome$76, YELLOhouse*76  | 

2. Log-in अलर्ट रखे


Log – In अलर्ट रखने के लिये Setting पर क्लिक करे | Setting पेज पर Security पर क्लिक करे | Security Setting  पेज पर Login Alert के नीचे Notification पर get notification पर क्लिक करे |
ठीक उसी तरह Email Login भी अलर्ट करे | इसके बाद Save Change पर क्लिक करे | अब आपके FB Account का Login Alart Enable हो गया |

2. Unkown Freinds Request को ब्लॉक करे :


इसके लिये Privacy Setting पर क्लिक करे | अब Who Can Contact Me पर क्लिक करे | यहा पर Who Can Send you Request पर Freind of Freind को सिलेक्ट करे | अब आपको आपके  Freind के Freind हि Freind Request भेज सकते है |

3. Log –Out करना ना भुले :


अगर आप अपना FB Account एक से ज्यादा PC पर Login करते है तब कई बार Logout करना भूल जाते होंगे | तब कोई भी अंजान व्यक्ती आपके FB Account का दुरुपयोग कर सकता है | इसके लिये facebook ने अपने युजर्स के लिये Logout Anywhere कि सुविधा सुरक्षा हेतू प्रदान कि है | इसके लिये आपको Setting पर जाकर Security Setting पर क्लिक करना है | अब Where you Logged in पर क्लिक करके आप चेंक कर सकते है कि आपका FB Account कहा कहा पर ओपन किया गया है | इन सबको आप याह पर एक हि साथ logout कर सकते है | 

हमारी ये पोस्ट भी जरूर पढ़े :

4. facebook युज करते समय दुसरी ऑनलाईन गतीविधी ना करे :


जब आप FB पर online है | उसी समय अगर आप कोई दुसरा online working कर रहे है जैसे कि Online Banking Transaction, या कोई महत्वपूर्ण काम कर रहे है ये आपकी सब गतीविधी facebook रेकॉर्ड करता है | इसकी वजह से आप किसी हॅकर्स का शिकार बन सकते है |  

तो दोस्तों आशा करता हु की आपको हमारी ये जानकारी जरूर पसंद आयी होगी | आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी साथ ही अगर आपके पास FB अकाउंट सुरक्षा संबंधी कुछ और टिप्स होंगे तो इसके बारे में हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे |  साथ ही आप हमे सोशल नेटवर्किंग साईट पर भी फॉलो कर सकते है | हमारी इस महत्वपूर्ण जानकारी को आप अपने दोस्तोंको सोशल नेटवर्किंग साईट पर जरूर शेयर करे | धन्यवाद ! 
   

Read More